कौशल विश्वविद्यालय की स्थापना के लिए 900 करोड़ रूपये के कैंपस कंस्ट्रक्शन समझौते पर हस्ताक्षर

0
145
Good News For Faridabad and Palwal

पलवल, 22 जनवरी। बसंत पंचमी के पावन अवसर पर सोमवार को हरियाणा विश्वकर्मा कौशल विश्वविद्यालय (एचवीएसयू) ने इरकॉन इन्फ्रास्ट्रक्चर एंड सर्विसेज लिमिटेड के साथ पलवल के दुधोला गांव में हरियाणा विश्वकर्मा कौशल विश्वविद्यालय की स्थापना के लिए अनुमानित 900 करोड़ रूपये के कैंपस कंस्ट्रक्शन समझौते पर हस्ताक्षर किए।

इस अवसर पर मुख्य अतिथि हरियाणा के कौशल विकास एवं औद्योगिक प्रशिक्षण मंत्री विपुल गोयल, पृथला विधान सभा क्षेत्र के विधायक टेक चंद शर्मा, कुलपति हरियाणा विश्वकर्मा कौशल विश्वविद्यालय राज नेहरु, प्रधान सचिव कौशल विकास एवं औद्योगिक प्रशिक्षण टीसी गुप्ता, सीईओ इरकॉन इन्फ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड सी के नायर, उपायुक्त मनीराम शर्मा, दुधोला गांव के सरपंच सुंदर सिंह और उद्योग जगत के अन्य गणमान्य व्यक्तियों ने शिरकत की।

हरियाणा के कौशल विकास मंत्री श्री विपुल गोयल ने कहा कि हरियाणा कौशल शिक्षा के क्षेत्र में सदा अग्रणी रहा है और स्कूली स्तर पर भी कौशल प्रशिक्षण कार्यक्रम शुरू करने वाला पहला राज्य था तथा यूनिवर्सिटी स्तर पर भी राज्य ने देश का पहला सरकारी कौशल विश्वविद्यालय स्थापित किया है जिसमें जहाँ एक ओर ऑटोमोबाइल, रोबोटिक्स, बैंकिंग, आईटी आदि आधुनिक तकनीकी पाठयकर्मों का प्रशिक्षण दिया जायेगा वहीं दूसरी ओर खेल कूद व कृषि आदि से संबधित कौशल प्रशिक्षण भी दिए जायेंगें। उन्होंने अपने गतिशील और अभिनव दृष्टिकोण के लिए कुलपति की प्रशंसा की और कहा कि उन्हें यकीन है कि राज नेहरू निश्चित रूप से एचवीएसयू को देश में कौशल शिक्षा के एक आदर्श रूप में स्थापित करेंगें जो राज्य के युवाओं को विकास और स्वयं रोजगार के नए अवसर प्रदान करेगा।
उन्होंने आगे कहा कि एचवीएसयू दोहरी कौशल शिक्षा मॉडल की विशेषता तथा कामयाबी उद्योग की साँझा भागीदारी में निहित है । उन्होंने उद्योग जगत का आहवान करते हुए कहा कि अब समय आ गया है कि राज्य के समग्र विकास के लिए उद्योग भी अपनी भागीदारी दे।

इस अवसर पर कुलपति श्री राज नेहरू ने कहा कि वसंत पंचमी के पवित्र दिवस पर समझौते पर हस्ताक्षर करने का अपना एक महत्व है। वसंत पंचमी देवी सरस्वती को समर्पित त्यौहार है जो ज्ञान और सभी कलाओं की देवी है। वह अपने सभी रूपों में रचनात्मक ऊर्जा और शक्ति का प्रतीक है। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय अपने शीघ्र निष्पादन के लिए जाना जाता है। पिछले कुछ महीनों के सीमित कार्यकाल में हमने विभिन्न उद्योगों के साथ 50 से अधिक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए हैं और जिनमें लगभग 8 कार्यक्रम शुरू किए हैं जिनमें दो डिग्री प्रोग्राम हीरो-मोटोकॉर्प लि के साथ शामिल हैं और अब केवल तीन महीने से काम समय में इरकॉन के साथ समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं। यह एक अनुठा परिसर होगा जो युवाओं को स्किलिंग के फील्ड में स्कूल से लेकर पीएचडी स्तर तक के बेहतर अवसर प्रदान करेगा। इसमें जीवंत प्रयोगशालाएं और इंडस्ट्रीज के उत्कृष्टता केंद्र होंगे, जो छात्रों को नवीनतम उपकरणों और तकनीकों पर कुशलता प्रदान करेंगें जिससे वो न केवल उद्योगों के लिए तैयार होंगें अपितु दूसरों के लिए रोजगार सृजन करने में भी सक्षम होंगें ।

उन्होंने कहा कि एचवीएसयू पाठ्यक्रम उद्योग और मांग उन्मुख होगा तथा हमारा लक्ष्य हमारे ऐतिहासिक विश्वविद्यालयों जैसे तक्षशिला, नालंदा, विक्रमशला और वलभी जैसे कौशल और आधुनिक शिक्षा का प्रतीक स्थल बनाना है। यूनिवर्सिटी का ऑफ कैम्पस ड्यूल स्किली एजुकेशन मॉडल एक अनूठा मॉडल है जो अन्य राज्यों में भी लोकप्रिय हो रहा है और एचवीएसयू ई एंड वाई के साथ एक मैनुअल को विकसित करने की प्रक्रिया में है।

डॉ सुनील गुप्ता ने बताया कि भारत के पहले कौशल विश्वविद्यालय का निर्माण जिला पलवल के गांव दूधोला में 82 एकड़ में किया जाएगा। एचवीएसयू इसमें लगभग 900 करोड़ निवेश करेगा जो तीन चरणों में होगा। पहले चरण में 400 करोड़ का निवेश होगा तथा इसका निर्माण 2020 तक लक्षित है। इस हाईटेक कैंपस में हरियाणा के युवाओं को सशक्त बनाने के लिए नवीन प्रौद्योगिकी और अत्याधुनिक पाठ्यक्रम होंगे जो औद्योगिक मांगों के लिए तैयार किए गए हैं। शैक्षणिक सत्र- 2019 तक एचवीएसयू का प्रथम चरण दुधौला स्थित अपने परिसर में शुरू करेगा और पहले चरण के दौरान 4000 उम्मीदवारों की प्रशिक्षण क्षमता के साथ विश्वविद्यालय द्वारा तैयार किए गए विभिन्न औपचारिक और गैर-औपचारिक कार्यक्रम शुरू किए जाएंगें और तीसरे चरण में 12000 उम्मीदवारों को कौशल प्रशिक्षण प्रदान करने का लक्ष्य रखा गया है।

कौशल विकास विभाग के प्रधान सचिव टी सी गुप्ता ने सम्बोदित करते हुए कहा कि हरियाणा ने एप्रेंनटिसशिप ट्रेनिंग में भी रिकॉर्ड कामयाबी हासिल की है और उन्हें उम्मीद है कि मैंगो ट्री के कांसेप्ट से शुरू यह यूनिवर्सिटी देश ही नहीं अपितु पुरे विश्व में हरियाणा का नाम रोशन करेगी। इस मौके पर विधायक टेकचंद ने भी संबोधित किया।

LEAVE A REPLY