CIA DLF ने दबोचा हत्यारा लुटेरा नेपाली गैंग

0
406

Faridabad 26 September 2016: पूरन चंद पवार डी.सी.पी एन.आई.टी ने आज दिनांक 26.09.16 को अपने कार्यालय में मिडिया को संबोधित कर बताया कि क्राईम ब्रांच टीम के एस.आई हरी ओम, ए.एस.आई अषवनी, ए.एस.आई अषोक कुमार, एच.सी ईष्वर, सि0 सहदेव, सि0 प्रीतम, सि0 कुलदीप, सि0 संदीप, सि0 नितिन ने सराहनीय कार्य करते हुए बलाईंड मर्डर की वारदात का खुलासा किया है।
पकडे गये आरोपियों का ब्योराः-
1 आर्य उर्फ सब्बी पुत्र राजू लाल निवासी धर्मपुरा जिला सिरोह नेपाल।

2 अर्जन उर्फ बच्चन पुत्र पदम निवासी गांव पुरंदी नेपाल।

3 सतोंश पुत्र राजदेव निवासी गरियां नेपाल।

4 प्रकाष उर्फ सेते पुत्र पदम उर्फ कमल निवासी नारंगढ नेपाल।

5 नीरज पुत्र जगदीष निवासी गांव रूपनू जिला सागरमथा नेपाल।

श्री पूरन चंद पवार ने बताया कि आरोपियों ने दिनांक 20/21.08.16 की रात को 2 राहगिरों को अपनी  गाडी जाईलो नं0  HR 47 D 6923में बैठाकर मारपीट करके एक राहगीर से 1700/-रू0 लेकर घाटा मोड उतार दिया तथा दूसरे राहगीर दिनेष ठाकुर से मारपीट करके उससे ए.टी.एम का पासवर्ड पता करके 25000/रू0 ए.टी.एम द्वारा निकाल लिये थें खाता में पैसे ज्यादा होने के कारण व पैसे निकालने के लालच में दिनेष ठाकुर के सिर में चोट मारकर व गला घोंटकर हत्या करके नाष को पहाडी क्षेत्र पाली सूरजकुण्ड रोड फरीदाबाद में फेंककर चले गये थें जिसपर थाना सूरजकुण्ड में धारा 302,395,201,120बी आई.पी.सी के तहत मुकदमा दर्ज कर जांच षुरू कर दी थी।
पूछताछ पर आरोपियों ने बताया कि उपरोक्त सभी आरोपी कैब में सवार होकर रात के समय फरीदाबाद गुडगांवा रोड पर घुमते थें जो भी सवारी रात के समय मिलती थी उसे अपनी कैब में बिठाकर जो भी सामान सवारी के पास होता था जैसे- पैसे, किमती फोन इत्यादि चिंजे लुट कर सवारी को रास्ते में छोडकर चले जाते थें।
सभी आरोपी पीछे से नेपाल के रहने वाले है और गुडगांवा में किराये पर रहते है और काॅल सैन्टर की गाडी चलाते है षनिवार को काॅल सैन्टर की छूटटी होने के कारण गाड़ी भी इनके पास ही थी और षाम को ये सभी सवारी को बैठाकर मारपीट करके लुटते थें। इन्होने इससे पहले भी दो वारदात गुडगांवा में की है जो इनके खिलाफ मुकदमा दर्ज है पहले वाली वारदात भी इन्होने षनिवार को ही की थी और ये वारदात भी षनिवार को ही की थी आरोपियों ने यह वारदात मोज-मस्ती करने की नियत से की थी आरोपी दिनेष को इसलिए मारा था की उसके अकाउट में ए.टी.एम से पैसे निकालते वक्त पता लगा की उसके अकाउट में एक लाख 67 हजार रू0 है और अगर इसकों छोड दिया तो यह पुलिस को बता देगा इसलिए दिनेष को मारकर फैक दिया था मृतक दिनेष वाई.के.के कंपनी मानेसर गुडगांवा में काम करता था। ओर मोहाली पंजाब का रहने वाला था।
पकडे गये आरोपियों से मृतक दिनेष का मोबाईल फोन, बैग, व अन्य सामान बरामद कर लिया है।
आज अरोपियों को अदालत में पेष किया जहा से अदालत ने आरोपियों को जेल भेज दिया है।

LEAVE A REPLY