गौरक्षकों ने गौकशी के लिए गायों को सकुशल छुड़वाया, तस्करों ने किया गाड़ी चढाने का प्रयास

0
144

फरीदाबाद 12 जनवरी। गऊ रक्षा युवा वाहिनी सेवा ट्रस्ट के अध्यक्ष अशोक बाबा सेक्टर-2, बल्लबगढ़ को करीब 1 बजे मुखबिर खास से सूचना मिली कि कुछ व्यक्ति जिनके नाम सूबी व टिल्लू हैं, वह एक टाटा 407 गाड़ी में गायों को गऊकशी के उद्देश्य से उठाने आ रहे हैं। अगर मुजेसर फाटक के आसपास नाकाबंदी की जाए तो गाड़ी हाथ आ सकती है। सूचना पाकर उसने पुलिस को सूचना की व क्राइम ब्रांच सेक्टर-56 के साथ उनकी तलाश जारी की।


तलाशी के दौरान उन्होंने अचानक देखा कि लगभग 7-8 गऊ तस्कर जो गायों को पकड़ कर एक टाटा 407 गाड़ी में डाल रहे थे। उन्होंने उन्हें रूकने का इशारा किया और पूछा कि क्या कर रहे हो। तो गऊकशों ने हम पर सीधे जान से मारने की नीयत से फायरिंग कर दी तथा नुकीले पत्थर मारने शुरू कर दिए। उन्होंने जमीन पर लेटकर अपनी जान बचाई। इसके बाद टाटा 407 को सीधा फाटक की तरफ भगा कर ले गए। उन्होंने गश्त कर रही सीआईए सेक्टर-56 को तुरंत बताया कि टाटा 407 गाड़ी धौज की तरफ से निबोट चौकी की तरफ भागी है। उन्होंने सीआईए को साथ लेकर तुरंत जोल्हका गांव में नाका लगा दिया। इतनी देर में तेज गति से आती टाटा 407 गाड़ी दिखाई दी। उन्होंने उन्हें रूकने का इशारा किया तो उन्होंने हमारे ऊपर गाड़ी चढ़ाने की कोशिश की। तुरंत हमने साइड में कूदकर अपनी जान बचाई। तभी टाटा 407 गाड़ी साथ में रखे नुकीले कांटे पर चढ़ गई। उसके बाद वह गाड़ी के पीछे भागते रहे।


उन्होंने उनके ऊपर क्रूरता से भरी हुई पहली गाय को जोल्हाका गांव में हमारे गाड़ी के आगे फेंक दी, इसके बाद दूसरी गाय को खुंटपुरी गांव में फेंका, तीसरी गाय को खुंटपुरी गांव से थोड़ा आगे फेंका, चौथी गाय को भी वहीं फेंक दिया। उसके बाद टाटा 407 गाड़ी किरनकी गांव में छोडक़र सभी गौ तस्कर वहां से भाग गए। इसके बाद सीआईए सेक्टर-56 स्टाफ ने गाड़ी को अपने काबू में लिया। वहीं गायों को जो क्रूरता से बंधी हुई थी उनको खोला और गऊशाला पहुंचाया। उन्होंने आरोपियों को ढूंढऩे की बहुत कोशिश की लेकिन वह नहीं मिले। उन्होंने इसकी शिकायत पुलिस को दी। पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ आईपीसी धारा 307, सी.एस. एक्ट 25-54-59 ऑम्र्स एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया है तथा जांच शुरू कर दी है।

LEAVE A REPLY