नगर निगम की लापरवाही के कारण आवारा पशुओ के चपेट में आयी नाबालिग बच्ची

0
70

फरीदाबाद:नगर निगम फरीदाबाद ने शहर में हजारों आवारा पशु जानबूझकर पाल रहे हैं जिनके कारण लोगों की जान हमेशा खतरे के रहती है। आप सड़क पर चल रहे हैं न जाने किस समय दो आवारा पशु लड़ने हुए आप के आस पास आ जायेंगे कोई पता नहीं। ऐसे पशुओं के कारण लोगों की जान तक जा चुकी है। सूचना मिल रही है आज सुबह लगभग सात बजे फ़रीदाबाद के सेक्टर-9 मे स्कूल बस का इंतज़ार कर रहे, स्कूल के बच्चों व परिजनों को आवारा पशुओं ने घायल कर दिया है।  एक जानकारी के मुताबिक़ शहर के सैकड़ों ऐसे डेयरी वाले हैं जो सुबह दूध निकलकर अपने पालतू पशुओं को सड़क पर छोड़ देते हैं। ये पशु आपको शहर के हर हिस्से में दिख जाएंगे।

लगभग दो साल पहले  उस समय के जिला उपायुक्त ने कहा था कि  अगर किसी पशुपालक का कोई पशु सड़क पर आवारा घूमते हुए पाया गया तो पहली दफा उनका 5100 रुपये का चालान काटा जाएगा, बावजूद इसके अगर वही पशु दूसरी दफा मिला तो 7500 और तीसरी दफा मिलने पर 11000 का जुर्माना वसूला जाएगा। इसके बाद भी संबंधित पशु पालक ने उस पशु ने नहीं संभाला और फिर आवारा छोड़ दिया तो फिर पशु को नहीं छोड़ा जाएगा। और  नगर निगम अधिनियम 1994 की धारा 332 के तहत यह कार्रवाई की जाएगी। हाल में आरटीआई के माध्यम से जानकारी माँगी गई थी। अब तक एक भी व्यक्ति से कोई जुर्माना नहीं वसूला गया।  नगर निगम अधिनियम 1994 की धारा 332 शायद कागजों पर ही है। निगम की लापरवाही के कारण आज की घटना हुई है।
अभी तक जो जानकारी मिली है उसके मुताबिक़ 8 साल की छात्र बनीप्रीति कौर संधू घायल हुई हैं। ये छात्रा
MVN स्कूल में पढ़ती है।

LEAVE A REPLY